google-site-verification: googlef57634a5cb6b508d.html

शुक्रवार, 31 जुलाई 2009

सूखे हुए फूल

ftUnxh tc Bgjko gksrh gS]

gj lqcg 'kke dh ckr gksrh gS A

cgqr [kkeks'k gks tkrk gS tc lkjk vkye

rc [kqn ls [kqn dh ckr gksrh gS

;w¡ gh [kks tkrh gs rqe tc ikl gksdj Hkh

eq>s Hkh ,d xqe'kqnk dh ryk'k gksrh gS

tc Hkh gks tkrk gw¡ mnkl g¡lrs g¡lrs

;kjksa esa rsjh csoQkbZ dh ckr gksrh gS A

tc Hkh vkrk gS lkou is I;kj eq>dks

fny ds gj dksus esa cx+kor dh vkokt gksrh gS

tc Hkh ns[krk gw¡ Qwykas dks eqLdqjkrs gq,

fdrkc esa j[ks ,d lw[ks gq, Qwy dh ;kn vkrh gS

ekuk fd bl tgk¡ esa gS dksbZ ugha viuk

exj fQj Hkh ]

gj jkst fdlh ds vkus dh vkl gksrh gS


तेज़ धूप का सफ़र पर्ल संस्थान जोधपुर द्वारा प्रकाशित पुस्तक से साभार

सर्वाधिकार सुरक्षित© लेखक-विपिन बिहारी गोयल



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कुछ तो कहिये हम आपकी राय जानने को बेताब हैं