google-site-verification: googlef57634a5cb6b508d.html

शनिवार, 8 दिसंबर 2012

उस तरफ क्या है

उस तरफ क्या है, एक लम्बा मौन , गहरी चुप्पी , समुद्र सी गंभीरता,
 या भीषण हाहाकार, एक आर्तनाद , उत्तंग लहरें
 इस का अन्त कहाँ हैं, आल्हाद् की विपुलता में, चरम सुख में, परमानन्द में ,
 या तनावपूर्ण शून्यता गहन नीरव अंधकार और अपेक्षा में
 क्यों चल रहे हो उस राह पे , यह तो सोचो कि तुम क्या खो के क्या पा रहे हो
 यह श्वास और स्पन्दन , यह धुटन और क्रन्दन
सहज क्या है , स्वभाव क्या है अस्तित्व का अहं या पद वैभव का वहम्
 काल चक्र की निरन्तरता क्यों तुम्हें अभिभूत नही करती
 प्रारब्ध हो या संचित कर्म-फल आखिर भोक्ता तो तुम हो ........
 सर्ष्टा नहीं , सृजन तो हो ,
क्या होना अधिक निरापद है , सूक्ष्म या विशाल
 भय का उद्भव अज्ञान है या संस्कार ,
और अज्ञान भी क्या है सर्प -रज्जु भ्रम विकार ग्रस्त चित्त , माया का प्रति रोपण
 अर्थ लाभ आखिर लाभ है या हानि ।
शंकालु चित्त चित्तवृत्तियों का सम्मोहन , दुराभिलाषा ,
लोभ जो पाप का मूल है
और फिर परिणति क्या है दासता स्वयं अपनी ही इन्द्रियों की ........
 एक दौड़ है खोज की , जिसे खोजना है वो बाहर नही , भीतर है भूत , भविष्य और वर्तमान से परे -

4 टिप्‍पणियां:

  1. आध्यात्मिकता लिए .. सुन्दर रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. What you are spoken communication is totally true. i do know that everyone should say a similar factor, however I simply assume that you simply place it in an exceedingly method that everybody will perceive. i am positive you may reach such a lot of folks with what you've to mention.

    उत्तर देंहटाएं
  3. I don’t skills ought to I provide you with thanks! i'm altogether shocked by your article. You saved my time. Thanks 1,000,000 for sharing this text.

    उत्तर देंहटाएं

कुछ तो कहिये हम आपकी राय जानने को बेताब हैं